Up : Google से निकाला कस्टमर केयर के नम्बर, निकला साइबर फ्रॉड, युवती ने गवाएं 4.13 लाख रुपए

यूपीडेस्क। देश में बढ़ते साइबर क्राइम के मामलों को देखते हुए पुलिस लगातार लोगों को जागरूक कर रही है। बावजूद इसके लोग अक्सर साइबर फ्राड के झांसे में फंस रहे हैं और अपने खून-पसीने की कमाई गवां रहे हैं। ऐसा ही कुछ मामला कमला नगर की एक युवती के साथ हुआ। युवती ने गूगल (Google) से कस्टमर केयर (customer care) का नंबर खोजा। जिसपर फोन करने पर फोन एक युवती ने उठाया। जिसने ग्राहक सेवा प्रतिनिधि बनकर एक एप डाउनलोड (app download) कराया। जिसके बाद युवती के सामने ही उसके खाते से 4.13 लाख रुपये पार कर दिए। घटना के बाद पीड़िता ने रेंज साइबर थाने में घटना की शिकायत की है।

जानकारी के अनुसार आगरा के कमला नगर निवासी शिवानी त्यागी के साथ साइबर क्राइम की घटना हुई है। उन्होंने बताया कि वह दिल्ली में नौकरी करती हैं। आईसीआईसीआई बैंक (icici bank) में उनका खाता है। उन्होंने पुलिस को बताया कि 9 मार्च को एटीएम से एक हजार रुपए निकाले। जिसके बाद चार्ज के रूप में उनके खाते से कुछ रकम कट गई। यह चार्ज किस बात का है। यह जानने के लिए उन्होंने गूगल (Google) से बैंक का टोल फ्री नंबर (toll free number) सर्च किया। जो नंबर मिला उस पर फोन मिलाया। फोन एक युवती ने उठाया। उसने उसी अंदाज में बात की जैसे कस्टमर केयर पर कर्मचारी करते हैं। अपना नाम बताया। जानकारी दी कि उसकी बात उनसे हो रही है।

पीड़िता ने उसे कस्टमर केयर समझकर अपनी समस्या बताई। उधर कस्टमर केयर के रूप में बात कर रही साइबर फ्राड युवती ने कहा कि रकम वापस हो जाएगी। फ्रॉड युवती ने एक एप का लिंक उनसे शेयर किया और उसे डाउनलोड करने के लिए कहा। उसके बाद एप में संबंधित जानकारी भरने के लिए कहा। पीड़िता ने ऐसा ही किया। शातिर साइबर फ्राड ने युवती से स्क्रीन शेयर एप डाउनलोड कराकर उसके खाते से 4.13 लाख रुपये निकाल लिए। पीड़िता ने हेल्प लाइन नंबर पर शिकायत दर्ज कराने बाद रेंज साइबर थाने में तहरीर दी गई है।

साइबर फ्राड से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान :

  • कंपनी की वेबसाइट पर जाकर ही नंबर सर्च करें।
  • गूगल पर ज्यादातर नंबर फर्जी हैं। साइबर अपराधियों ने डाल रखे हैं।
  • शिकायत के दौरान कोई एप डाउन लोड करने की कहे तो कतई नहीं करें।
  • कोई लिंक भेजे तो उसे ओपन नहीं करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *