Chandauli : SRVS महिला महाविद्यालय में चल रहे जिला स्तरीय संकुल शिक्षकों की कार्यशाला का हुआ समापन

चन्दौली : एसआरवीएस महिला महाविद्यालय पचफेड़वा में चल रहे जिला स्तरीय संकुल शिक्षकों की कार्यशाला का सोमवार को समापन हुआ। समापन सत्र का शुभारंभ अपर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया। इसमें उन्होंने प्राथमिक विद्यालय भिखारीपुर के बच्चों को पुरस्कार व उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर दो शिक्षकों को प्रमाणपत्र प्रदान किया। कार्यशाला में बरहनी, चकिया व नौगढ़ विकासखंड के एक सौ 80 शिक्षक संकुलों ने प्रतिभाग किया।

इए दौरान अपर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि प्रशासनिक कार्यों में योजनाओं का सर्वाधिक महत्व है। किसी भी योजना के लक्ष्य को अनुशासन व उत्तरदायित्व की भावना से ही प्राप्त किया जा सकता है। कहा कि शिक्षकों के उत्तरदायित्व व जवाबदेही को नए सिरे से देखने की आवश्यकता है। शिक्षकों में अनुशासन का विकास अपेक्षित है। वर्तमान में शिक्षकों पर समाज कुछ उत्तरदायित्व तय करता है। जिसपर खरा उतरना एक दुरूह कार्य है। वही डायट प्राचार्य डॉ माया सिंह ने कहा कि बाल केंद्रीय शिक्षा में शिक्षार्थी, शिक्षक व अभिभावक के बीच समन्वय जरूरी है। साथ ही उनके बीच आत्मीय जुड़ाव भी होना चाहिए। बच्चों में अंतर को दूर करना होगा। कहा कि बच्चों को सदैव आनन्दपूर्ण माहौल में ही शिक्षा देना चाहिए। नौनिहालों में रुचि का विकास करना ही शिक्षक का दायित्व है।

इस मौके पर कार्यशाला प्रभारी डॉ रोशन सिंह, डॉ बैजनाथ पांडेय, डॉ देवेंद्र उपाध्याय, जयंत कुमार सिंह, डॉ जितेंद्र सिंह, हरबंस यादव, एसआरजी सुभाष यादव, जेपी यादव, अनिता कुमारी, बाईओ रामटहल, नागेंद्र सरोज, कमर अयूब, लिली श्रीवास्तव, राजश्री सिंह, स्वाति राय, मंजू कुमारी, रमाशंकर यादव, अभिषेक पांडेय, कुमारी शाहरीन, वंदना वर्मा, इंदू श्रीवास्तव, सन्तोष गुप्ता आदि मौजूद रहे। संचालन अतहर सईद व जेपी रावत ने संयुक्त रूप से किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *